History Notes सिन्धु घाटी की सभ्यता -1

सिन्धु घाटी की सभ्यता -1

  • सिन्धु घाटी की सभ्यता का उद्धभव काल में भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमोत्तर क्षेत्र में हुआ था, जो वर्तमान में।भारत, पाकिस्तान तथा अफगानिस्तान के कुछ क्षेत्रों में अवस्थित है।

    इस काल की सभी संस्कृतियों में सैन्धव सभ्यता सबसे विकसित, विस्तृत और उन्नत अवस्था में थी। इसे हड़प्पा सभ्यता (harappan civilization ) भी कहते है क्योंकि सर्वप्रथम 1921 ई. में हड़प्पा नामक स्थान से ही इस संस्कृति के सम्बन्ध में। जानकारी मिली थी।

    सैन्धव सभ्यता अनुकूलता के मध्य उत्पन्न हुई थी जिसका ज्ञान उत्खनन एवं अनुसन्धान द्धारा होता है। सैन्धव सभ्यता एक नगरीय सभ्यता थी, क्योंकि इसके पुरातात्विक अवशेषों से परिवहन, व्यापार, तकनीकी, उत्पादन, एवं नियोजित नगर व्यवस्था के तत्व प्राप्त होते हैं।

     

    सैन्धव सभ्यता का भौगोलिक विस्तार

     

     

                                                                उत्तर में कश्मीर (मांडा)

     

     

     

    पूर्व में आलमगीरपुर (मेरठ)                                                                                      पश्चिम में सुतकागेंडोर तक

     

     

                                                                 दक्षिण में नर्मदा नदी तक

     

    सैन्धव सभ्यता एक विस्तृत भू- भाग पर फैली थी जिसमे सिंध, पंजाब था घग्घर नदी के क्षेत्र प्रमुख थे।अधिकांश सैन्धव बस्तियां इसी क्षेत्र में थी।इन क्षेत्रों में समरूपता पाई जाती है। सभ्यता का स्वरुप पूर्णतः विकसित व नगरीय थी। व्यवसाय, परिवहन के साधन, पशुपालन, तकनीकी तथा उत्पादन प्रडाली इस सभ्यता का उन्नतता के परिचायक है।

Related Posts